Friday, 16 July 2021

यह जीवन एक कल्पवृक्ष है

  यह जीवन एक कल्पवृक्ष है

 जो दुर्लभ रुप से मिलते हैं

"ईश्वर अंश जीव अविनाशी"

ऋषि मुनि भी कहते हैं.

अद्वितीय सी कृति ब्रह्म की

अद्भुत कार्य सब करते हैं

लक्ष्य अगर ना हो जीने का

पशुवत जीवन जीते हैं.

सबसे अलग विशिष्ट बनाते

उपलब्धि वो पाते हैं

बहुमूल्य सा हर एक पल को

उम्मीद बना हर्षाते हैं.

आत्मदेवता की अराधना

जो निर्मल मन से करते हैं

स्वस्थ चिंतन-मनन की शक्ति

उनमें सहज ही रहते हैं.

मात्र स्वार्थ वृत्ति के कारण

वो दानव कहलाते हैं

अहंकार का साधन बनकर

चैन कभी ना पाते हैं.

अनंत देव हैं सर्वश्रेष्ठ है

निरोगी काया का उपहार

भगवान सदा ही खुश होते हैं

बरसाते उनपर उपकार.

भारती दास ✍️


28 comments:

  1. सार्थक संदेश देती रचना ।

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद संगीता जी

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर भाव।

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद सर

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी और सुंदर कविता

    ReplyDelete
  6. सुंदर,संदेशपूर्ण और प्रेरक रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद जिज्ञासा जी

      Delete
  7. बहुत सुन्दर संदेश लिए सुन्दर सृजनात्मकता ।

    ReplyDelete
  8. धन्यवाद मीना जी

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete

  10. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में बुधवार 21 जुलाई 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  11. धन्यवाद पम्मी जी

    ReplyDelete
  12. सुन्दर कविता, सब कुछ संभव है इस जीवन से।

    ReplyDelete
  13. सही सटीक! मानव सच में विधाता की अद्भुत कृति है और वो श्रेष्ठता से जीवन जीता हो तो संसार मंगलमई हो सकता है।
    सुंदर भाव सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद कुसुम जी

      Delete
  14. लक्ष्य अगर ना हो जीने का
    पशुवत जीवन जीते हैं.
    सबसे अलग विशिष्ट बनाते
    उपलब्धि वो पाते हैं
    बहुत ही सुन्दर संदेशप्रद लाजवाब सृजन
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सुधा जी

      Delete
  15. बहुत सुंदर भावपूर्ण सृजन।
    सादर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद श्वेता जी

      Delete
  16. एक सुंदर पेशकश आपकी आदरणीय ।
    सादर

    ReplyDelete
  17. बहुत बहुत सराहनीय

    ReplyDelete
  18. धन्यवाद सर

    ReplyDelete