Wednesday, 14 April 2021

आई जगदम्बे मां द्वार

आई जगदम्बे मां द्वार
लाई आंचल में भर प्यार
आई जगदम्बे मां द्वार....
जय शक्ति स्वरूपिणी माता
जय जग पालिनी शुभ दाता
छाई खुशियां हर्ष अपार
आई जगदम्बे मां द्वार....
दुर्बल मन ये घबराया
दुर्गम क्षण फिर बन आया
सुखदाई कर उपकार
आई जगदम्बे मां द्वार....
भयभीत हुआ मही सारा
निर्वाह कठिन है हमारा
शुभदाई हर अंधकार
आई जगदम्बे मां द्वार....
नित दिन करते हैं अर्चन
निज भाव सुमन का अर्पण
महामाई सुन मनुहार
आई जगदम्बे मां द्वार....
भारती दास







 


9 comments:

  1. माँ की खूबसूरत आराधना .... जगदम्बे माता की जय ...

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत धन्यवाद संगीता जी

    ReplyDelete
  3. वाह👌👌 भारती जी, माँ जगत जननी से मन का भावपूर्ण संवाद!!!
    हार्दिक शुभकामनाएं 🙏🙏🌹💐

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद रेणु जी

      Delete
  4. बहुत सुन्दर।
    चैत्र नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  5. बहुत बहुत धन्यवाद सर
    आपको भी चैत्र नवरात्र की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  7. जय माँ भवानी, माता की प्यारी सी रचना, सुंदर प्रार्थना, सादर नमन

    ReplyDelete
  8. माँ के चरणों में शीश नवाता हूँ ... बहुत सुन्दर रचना है ...

    ReplyDelete