Google+ Followers

Thursday, 14 July 2016

हे मेघदूत तुम आये



हे मेघदूत तुम आये
सन्देश प्रीत का लाये
बरसा के नभ से सोना
दारिद्रय तुम मिटाये, हे....
प्यासी पड़ी थी धरती
मुश्किल में जान अटकी
जीवों में प्राण देकर
आनंद सुधा बहाये, हे....
कुसुमित हुई लतायें
हर्षित हुई फिजायें
मन बन गया है उपवन
उर में सुमन खिलाये, हे....
बिजली चमकती जाये
दादुर के सुर सुहाये
रिम झिम के स्वर निरंतर
नई कोई राग गाये, हे....