Google+ Followers

Friday, 28 November 2014

प्रभु की लाठी



बस गंतव्य को चल पड़ी थी
भीड़ बड़ी उमड़ी हुई थी
एक बाबा थे बस में सवार
व्यक्तित्व था उनका रौबदार
एक सज्जन जो चुप बैठा था
बाबा के पहलु से सटा था
वो अचानक चीख उठा था
मै लुट गया कहकर रो पड़ा था
जेब मेरे कट गए हैं
सारे पैसे लुट  गए हैं
मेरी मेहनतभरी कमाई
बचा न अब तो एक भी पाई
कंडक्टर ने बस को रोकी
होने लगी तलाशी सबकी
बाबा के भी पास थे पैसे
क्षोभ से गर्दन थे झुके से
सिपाही ने बाबा को डांटा
लगा भी दी एक-दो चांटा
ना ही किया उम्र का लिहाज
न रखी उनकी कुछ लाज
बाबा की आँखें भर आई
इस उम्र में हुई जग हंसाई
सारे दिन की कठिन कमाई
कुछ भी मेरे काम न आई
बच्चों ने घर से निकाला
भाग्य ने इज्जत उछाला
इस दुनियां से रुखसत कर
या अल्ला इंसाफ कर
जो सज्जन पैसा ले भागा
तांगे से टकराया अभागा
घोड़े सीने पर चढ़ आया
खून से लथ-पथ हो गयी काया
उसने कहा बाबा को बुलाओ
प्लीज जरा बाबा को लाओ
हाथ जोड़कर उसने बोला
माफ़ करें मै झूठ था बोला
आपके पैसे यहीं पड़े  हैं 
खुदा ने मुझको सजा दिये हैं
मौन खड़े बाबाजी रोये
जी भरकर आंसू बरसाये
भगवान सबके साथ न होते
कमजोर बेचारे रोज ही पिटते
प्रभु की लाठी सख्त बड़ी है                  
न जाने कब किस वक्त पड़ी है.