Google+ Followers

Friday, 15 August 2014

जीवन में उतरेंगे कृष्ण



गोकुल में जन्में थे कृष्ण
मथुरा में पले थे कृष्ण
धर्म के रथपर कर्म के पथपर
चलते चले थे वो जीवनभर
उनके वचन गीता कहलाये
पावन इतनी कि कसमें खाये
युद्ध में भी सामर्थ्य दिखाये
धर्म-अधर्म का अर्थ बताये
चैन की वो वंशी भी बजाये
जीवन क्या है ये समझाये
उनसे जुड़ी थी जो भी चीज
अमूल्य हो गया है वो प्रतीक
कृष्ण प्रेम से मुँह ना मोड़े
पुरुष बने पुरुषार्थ ना छोड़े
भोगी बनकर धर्म ना छोड़े
योगी बनकर कर्म ना छोड़े
जबतक है जीवन के क्षण
बढे सार्थक सही कदम
जीवन में उतरेंगे कृष्ण
घन बनकर बरसेंगे कृष्ण .


                     HAPPY JANMASHTAMI.