Sunday, 29 April 2018

विषैले बेल की तरह


विषैले बेल की तरह 
फैलता ही जा रहा है  
निर्दोष-नौजवानों का
रक्त पीता जा रहा है.
अन्याय का अपकर्ष का
विद्रोह का विध्वंस का
प्रतिशोध से अनगिनत ही
दंश देता जा रहा है.
ईर्ष्या-द्वेष हाहाकार है
विवश-विकल चीत्कार है
प्रतिभावान छात्र तो
व्यंग्य बनता जा रहा है.
पुण्य या दुष्पाप है
संघर्ष या अभिशाप है
आरक्षण की मार से
निष्पंद-स्वप्न हो रहा है.
मार-काट-क्रूरता
अनय की कठोरता      
क्रोध बन फूटता
कलह-बैर-दुष्टता
जातिगत-जड़ता
कलंक बनता जा रहा है.