Google+ Followers

Tuesday, 8 April 2014

राम भजन










हे रघुनाथ रघुवंश के नायक
सकल मनोरथ जन सुखदायक
                      सकल .....
                      हे .....
दशरथ-नंदन हे दुख-भंजन
कौशल्या-सुत युग के वंदन
भगत-वचन मुनि-जन के लायक
                      सकल .....
                       हे .....
घट-घट वासी हे अविनाशी
सीता के पति सद्गुण राशी
राम अनंत तुम शुभ फल दायक
                      सकल ....
                      हे ......
तेरे चरण-रज जिसने पाये
पाहन से मानव बन जाये
रामचंद्र तुम सबके सहायक
                    सकल ....
                    हे ......
राम-राम महा-मंत्र हमारा
निशिचर हीन करो मही सारा
कर पकड़े सुन्दर धनु सायक
                   सकल .....
                   हे .....

''HAPPY RAMNAVMI''