Google+ Followers

Tuesday, 17 December 2013

अरविन्द चले सत्ता की ओर



राजनीती में यही है शोर
आम आदमी का है जोर
जनता के बनकर सिरमोर
अरविन्द चले सत्ता की ओर
अन्ना के सहयोगी बनकर
आन्दोलन में खड़े थे डटकर
लोकपाल के बिल को लेकर
हो गए  प्रचलित –प्रखर
अब सत्ता की आई बारी
मुद्दों की करके तयारी
एक सपना साकार होगा
नव - तंत्र का अवतार होगा
राजनीती का पथ है भ्रष्ट
सीधे लोग हो जाते त्रस्त
बेईमान की जगह वहां है
ईमानदार की जगह कहाँ है
नेताओं के पंगु विचार
जूझते गरीव और लाचार
‘’आप’’बात बनाना छोड़े
जनता को आजमाना छोड़े
युग के अनुरूप हुआ चुनाव
लोगों ने देखा भोर का ख्वाव
अब अपना वादा निभाए
कार्य करे वो ना कतराए .