Google+ Followers

Friday, 2 August 2013

सुप्रभात

उर से उर की तार मिले
दुख-सुख में हर बार मिले
है दोस्त वाही जो ढाल बने
संकट में तलवार बने


"happy friendship day "